बड़ा आदमी बनना चाहता था, परिजनों को बिलखता छोड़ गया

– अमित वधवा की गमगीन माहौल मेंं अंत्येष्टि
– गुडग़ांव में 23 वीं मंजिल से कूदकर दे दी थी जान
श्रीगंगानगर। गुडग़ांव की रविवार रात को डीएलएफ सिटी स्थित मंगनोलियाज अपार्टमेंट की 23 वीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर लेने वाले आईआईटी इंजीनियर अमित वधवा का आज यहां गमगीन माहौल में अंतिम सस्कार कर दिया। आज जब अमित का शव यहां लाया गया तो माहौल बेहद गमगीन हो गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हो गया। बड़ा आदमी बनने की इच्छा रखने वाला अमित परिवार वालों को रोता-बिलखता छोड़ गया। 26 वर्षीय अमित श्रीगंगानगर के जवाहरनगर में एकता पार्क के सामने रहने वाले इंश्योरेंस कंपनी के अधिकारी महेश वधवा का पुत्र था। अंतिम यात्रा मेें बड़ी तादाद में लोग शामिल हुए। लोगों ने शोकाकुल परिवार को ढाढस बंधाया। गुडग़ांव पुलिस के अनुसार युवक डिप्रेशन का शिकार था। पुलिस को सुसाइड नोट नहीं मिला है।
अमित वधवा ने कानपुर स्थित आईआईटी से इंजीनियरिंग करने के बाद मुंबई की एक निजी कंपनी में कुछ दिन नौकरी की थी। अब वह आईआईएम से एमबीए की पढ़ाई करना चाहता था। उसने गुडग़ांव में सोमवार को ऑन लाइन परीक्षा देनी थी लेकिन इससे पहले रात को ही उसने जान दे दी। पुलिस के अनुसार अमित के ताऊ रिटायर्ड आयकर अधिकारी चुन्नीलाल वधवा गुडग़ांव में गोल्फ कोर्स रोड स्थित मंगनोलियाज अपार्टमेंट की 23वें मंजिल पर परिवार के साथ रहते हैं। अमित ने रविवार रात करीब दो बजे 23वीं मंजिल से छलांग लगा दी। परिजन उसे लेकर एक निजी अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अमित के परिजनों के अनुसार कुछ दिन पहले अमित ने मुंबई की कंपनी का काम छोड़ दिया था। वह कुछ बड़ा करना चाहता था। इसलिए वह एमबीए करना चाह रहा था।