BREAKING NEWS
Search

बिहार में वही बाढ़ के हालात, वही 5 करोड़ का गुजराती चेक, अब लौटाने के मूड में नहीं नीतीश

पटना। बिहार में बाढ़ के वही 2008 जैसे हालात हैं. एक बार फिर राज्य के बाढग़्रस्त इलाकों की मदद के लिए वही पांच करोड़ का गुजरात का चेक प्रस्तावित है. गुजरात में वही बीजेपी सरकार है. बिहार के सत्ता के सिंहासन पर बैठे वही सीएम नीतीश कुमार हैं, जिन्होंने उस समय मदद को ठुकरा दिया था, लेकिन इस बार पांच करोड़ लौटाने के मूड में नहीं दिख रहे. बिहार के बाढग़्रस्त इलाकों की मदद के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी सरकार के राजस्व मंत्री भूपेन्द्र सी चुडसामा पटना में बिहार के सीएम नीतीश कुमार को 5 करोड़ का चेक देंगे. इस मौके पर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी मौजूद रहेंगे. यह 5 करोड़ रुपये बिहार में बाढ़ पीडि़तों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में जाएगा. बिहार में इस साल बाढ़ से भारी तबाही हुई है. वक्त बदला और हालात बदले तो दिलों में बैठी मैल भी दूर हो गई. पीएम नरेंद्र मोदी से नीतीश कुमार ने सारी सियासी अदावत भूलाकर दोस्त बन चुके हैं. नीतीश कुमार बीजेपी के सहयोग से फिर बिहार की सत्ता पर विराजमान हैं. ऐसे में वह कैसे गुजरात की मदद को लौटाएं. जबकि एक समय था जब नरेंद्र मोदी की परछाई से भी नीतीश कुमार परहेज करने लगे थे. इस चक्कर में उन्होंने मोदी ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया तो उसे भी स्वीकार नहीं किया. दरअसल 2008 में बिहार के कोसी नदी का बांध टूट जाने की वजह से कोसी इलाके में भारी तबाही हुई थी. ऐसे में गुजरात सरकार ने 2008 में 5 करोड़ की मदद भेजी थी. उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी थे. लेकिन 2010 में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक पटना में हो रही थी. उसी दौरान कुछ उत्साही बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने पटना में पोस्टर लगा दिया था कि गुजरात ने बिहार को 5 करोड़ की मदद की थी. इससे नाराज मुख्यमंत्री ने गुजरात के पैसे लौटा दिए थे और बीजेपी नेताओं के सम्मान में मुख्यमंत्री आवास में होने वाले भोज को भी रद्द कर दिया था. बिहार फिर उसी 2008 की हालात पर आकर खड़ा है. बाढ़ के वही हालात हैं और मदद के लिए वही गुजरात सरकार की ओर से पांच करोड़ रुपये का चेक सामने आया है. ऐसे में एक बार फिर गुजरात के इस मदद से राजनीति सुगबुगाने लगी है. नीतीश कुमार ने हाल ही बिहार में बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाई है और उसके बाद वो अब एनडीए में भी एक बार फिर शामिल हो गए हैं. 2008 के बाद 2017 में गुजरात से मदद मिल रही है हालांकि इस दौरान कोई बड़ी बाढ़ भी नहीं आई. यही वजह है कि बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी कहते हैं कि पुरानी बातों को याद करने से कोई फायदा नहीं है. उन्होंने कहा बिहार में इस साल भयानक बाढ़ को देखते हुए कई राज्यों ने मदद दी है. केवल गुजरात ही नहीं मध्यप्रदेश, झारखण्ड और उत्तर प्रदेश जैसे राज्य मदद कर रहे हैं.