बीएलओ की ड्यूटी लगाने के विरोध में कार्यशाला का बहिष्कार

सादुलशहर (एसबीटी)। चुनाव शाखा के बीएलओ की ड्यूटी लगाने से आक्रोशित ग्राम सेवकों एवं कनिष्ठ लिपिकों ने शुक्रवार को बैठक करके रोष व्यक्त किया। बैठक में निर्णय किया गया कि ग्राम सचिव बीएलओ के कार्य के अलावा कोई कार्य नहीं करेंगे। ग्राम सचिव का इसके बाद राजस्थान ग्राम सेवक संघ उपशाखा अध्यक्ष बलतेजसिंह के नेतृत्व में सभी ग्राम सचिव पंचायत समिति हॉल पहुंचे। यहां होने वाली मुख्यमंत्री स्वच्छ ग्राम योजना आमुखीकरण कार्यशाला का भी बहिष्कार किया गया। इसके बाद उपशाखा ने जिला कलक्टर एवं सीईओ जिला परिषद के नाम का ज्ञापन विकास अधिकारी जगवीर सिंह रमाणा को दिया गया। इसमें उल्लेख किया कि ग्राम सचिवों के पास पहले ही पंचायत राज योजनाओं सहित विभिन्न योजनाओं के कार्य बहुत ज्यादा हैं। कुछ ग्राम सचिवों के पास दो-दो ग्राम पंचायतों का चार्ज है। ऐसी स्थिति में पूर्व में भी बीएलओ का कार्य ग्राम सचिवों को नहीं देने का आग्रह किया गया था परंतु कोई सुनवाई नहीं हुई है। इसलिए संघ ने निर्णय किया है कि ग्राम सचिव बीएलओ का ही कार्य करेंगे। अन्य कोई कार्य जिनमें प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना, स्वच्छ भारत मिशन के कार्य भी शामिल हैं। ज्ञापन देने वालों में विवेक कथूरिया, रामकुमार गोयल, सुभाष मांझू, रामकुमार जाट, इंद्रसैन गोदारा, रघुवीर वर्मा, गुरनायब सिंह ढिल्लों, जसवंत सिंह, प्रेम अरोड़ा, दीपक अरोड़ा, कृष्ण वर्मा, रजनीश महेश्वरी, सुखपाल यादव, गुरमेल सिंह आदि शामिल थे।
सरपंच यूनियन एवं मंत्रालयिक कर्मचारी संघ ने भी दिया समर्थन
इसी कड़ी में सरपंच यूनियन के अध्यक्ष गुरसेवक सिंह बराड़, उपाध्यक्ष बख्तावर सिंह भुप्पल के नेतृत्व में सरपंच यूनियन के सदस्यों ने भी ग्राम सचिवों को समर्थन देते हुए एक दिवसीय कार्यशाला का बहिष्कार किया। राजस्थान पंचायती राज मंत्रालयिक कर्मचारी संघ उपशाखा अध्यक्ष सुभाष मांझू ने भी उपशाखा की ओर से समर्थन पत्र दिया।