बेटे ने दी थी धमकी, बंद कमरे में कैबिनेट मंत्री पिता ने माफी मांगी और कहा…

नई दिल्ली। बेटे ने सरपंच प्रतिनिधि को धमकी दी थी, अब कैबिनेट मंत्री पिता ने बंद कमरे में पीडि़त से माफी मांगी और उसके बाद मामला निपट गया। सरपंच प्रतिनिधि उदय सिंह ने कहा कि कृषि मंत्री ने बेटे की गलती के लिए माफी मांग ली है अब गिले-शिकवे दूर हो गए हैं। मंत्री से अब कोई शिकायत नहीं है। सतनाली की सरपंच रिंकू देवी के प्रतिनिधि उदय सिंह को कृषि मंत्री ओपी धनखड़ के बेटे आदित्य धनखड़ ने फोन कर रोजी रोटी छीन लेने की धमकी दी। इस मामले में ग्रामीण नाराज हो गए थे और मामला तूल पकड़ गया था। मंगलवार शाम को तय हुआ था कि सांसद धर्मबीर के घर कृषि मंत्री और सरपंच प्रतिनिधि समेत अन्य लोगों की बैठक होगी। सरपंच प्रतिनिधि उदय सिंह ने बताया कि बुधवार रात 7.30 बजे वह क्षेत्रिय राजपूत सभा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तंवर, दीवान सिंह, पंच राजेंद्र शर्मा, सवाई सिंह राठौड़, ओमप्रकाश भगत सिंह समेत करीब 25-30 पंचायत सदस्यों के साथ भिवानी में महम रोड स्थित सांसद धर्मबीर सिंह के निवास पर पहुंचे। 10 मिनट बाद ही सफेद रंग की कार में कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, राज्य पशुधन बोर्ड के चेयरमैन ऋषि प्रकाश शर्मा वहां पहुंचे। 7.40 बजे सांसद धर्मबीर सिंह की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय कमेटी की मीटिंग बंद कमरे में शुरू हुई। मीटिंग एक घंटे तक चली।उदय सिंह ने बताया कि मीटिंग के दौरान मंत्री ओपी धनखड़ ने हाथ जोड़कर प्रतिनिधि मंडल के समक्ष माफी मांगी। धनखड़ ने कहा कि बेटा गलती कर देता है तो बाप को झुकना पड़ता है। जवानी के जोश में उसने ऐसा कहा दिया। अगर आप लोग आदित्य से माफी मंगवाना चाहते हैं तो वह उससे भी माफी मंगवा देंगे। इस पर पंचायत प्रतिनिधित व कमेटी सदस्य समझौते पर तैयार हो गए। मंत्री ने आश्वासन दिया कि गिट्टी लोडिंग का कार्य डीआरएम को कहकर रद्द करवा देंगे। उन्होंने कहा कि अगर गांव में कोई विकास की समस्या तो वो उन्हें बताएं। मेरे आवास पर मंत्री और सरपंच उदय सिंह की बैठक हुई थी बैठक में दोनों ने अपने गिले शिकवे दूर कर लिए हैं। अब सरंपच मंत्री से कोई शिकायत नहीं है।