बैठक बहिष्कार पर पार्षद की पिटाई, थाने पहुंचे जनप्रतिनिधि

– विधायक और ईओ में तकरार के बाद बैठक का बहिष्कार
रायसिंहनगर। नगर पालिका की गुरुवार को हुई बैठक विधायक और अधिशासी अधिकारी में तकरार के बाद हंगामे की भेंट चढ़ गई। हालांकि सत्तापक्ष ने किसी तरह कोरम पूरा करके एजेंडे पास करवा लिये लेकिन बैठक के बाद एक निर्दलीय पार्षद की पिटाई से मामला फिर गर्मा गया और जनप्रतिनिधि पुलिस थाने पहुंच गए। दोपहर दो बजे समाचार लिखे जाने के समय अनेक जनप्रतिनिधि पुलिस थाने पहुंचे हुए थे और मामला दर्ज करवाने के प्रयास हो रहे थे।
बैठक सुबह 11.30 बजे शुरू हुई तो अधिशासी अधिकारी पवन चौधरी ने पालिका की माली हालत कमजोर बताते हुए कुछ सुझाव दिए। उनका कहना था कि वर्तमान आय से कर्मचारियों का वेतन भी पूरा नहीं हो पा रहा है। उन्होंने सुझाव दिया कि प्रार्थना पत्रों का शुल्क पांच के बजाय दस रुपए, नामांतरण पत्रों का शुल्क 120 से बढ़ाकर 150 रुपए किया जाए। इसके अलावा जिन लोगों के भूखंड खाली पड़े हैं और चारदीवारी नहीं करवाने से गंदगी का कारण बन रहे हैं, उन्हें पालिका अपने कब्जे में लेकर पालिका की सम्पत्ति के बोर्ड लगवाएगी। इस दौरान कांग्रेस के विधायक संतलाल मेघवाल ने शहर में सफाई अव्यवस्था का आरोप लगाते हुए ऊंची आवाज में विरोध किया। इस बीच, बैठक में मौजूद जमींदारा पार्टी की विधायक सोनादेवी बावरी ने आरोप लगाया कि अधिशासी अधिकारी भ्रष्टाचार का खुला खेल खेल रहे हैं। उन्होंने अधिकारी पर जनप्रतिनिधियों से दुव्र्यवहार का आरोप भी लगाया और यहां तक कहा कि ईओ विधायक को बैठक में बुलाना ही नहीं चाहते। इस बात को लेकर ईओ और विधायक में तकरार हो गई।
बात तब और बिगड़ गई जब पालिकाध्यक्ष विमलादेवी भी ईओ के पक्ष में उतर आई। कुछ पार्षद भी उनके पक्ष में खड़े हो गए और जोर-जोर से बोलने लगे। हंगामे के बीच विधायक बैठक का बहिष्कार करके वहां से रवाना हो गई। इसके बाद निर्दलीय पार्षद सोनू एवं अन्य ने भी सफाई और भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। कांग्रेस व निर्दलीय पार्षदों ने भी बैठक का बहिष्कार कर दिया और बाहर आ गए। वहां उनकी सफाई कर्मचारियों के साथ भिड़ंत हो गई। नाराज कांग्रेस पार्षद वहां धरना लगाकर बैठ गए। पार्षद संतलाल मेघवाल ने तो इस्तीफे की पेशकश कर दी। उनका कहना था कि पार्षदों के साथ यही व्यवहार होता रहा तो वे सदस्यता त्याग देंगे। आधा घंटा धरने के बाद कांग्रेस व निर्दलीय पार्षद भी अपने घर चले गए।
इसके बाद पालिकाध्यक्ष विमलादेवी ने फिर बैठक शुरू करने के लिए कहा लेकिन तब कोरम पूरा नहीं हो रहा था। उनके समर्थक पार्षदों ने सदस्यों को फोन करके बुलाना शुरू किया ताकि कोरम पूरा करके बैठक शुरू की जा सके। उनके यह प्रयास दोपहर डेढ़ बजे रंग लाए और बैठक में हस्ताक्षर करवा कर बिना चर्चा एजेंडा पास कर दिया। सूचना पाकर जब निर्दलीय पार्षद सोनू वहां पहुंचे तो वहां सत्तापक्ष के एक पार्षद के रिश्तेदार ने उनकी पिटाई कर दी। इससे लोगों में रोष फैल गया और अनेक जनप्रतिनिधि एकत्र होकर पुलिस थाने पहुंच गए। वे लोग मामला दर्ज करवाने के प्रयास कर रहे थे।
कचरा डालेंगे 32 एनपी में
बैठक में पास हुए एजेंडे के अनुसार अब शहर का कचरा चक 32 एनपी के पास मुरब्बा नंबर छह में फेंका जाएगा। इससे शहर में एकत्र कचरे की बड़ी समस्या से निजात मिलेगी।
सहायक अभियंता का पद समाप्त
एजेंडा पास हो जाने से पालिका में सहायक अभियंता का पद भी समाप्त हो गया है। अब यहां कनिष्ठ अभियंता ही काम करेंगे।
घर से बुलाकर कोरम पूरा, सात एजेंडे पास
रायसिंहनगर। सत्ता पक्ष के पार्षदों ने भागदौड़ करके, कुछ को घर से लाकर, पार्षदों को इक_ा किया और चौदह का आंकड़ा छूकर कोरम पूरा करके बिना चर्चा किए ही आठ में से सात एजेंडे पास करवा लिये। यह कार्रवाई लगभग डेढ़ बजे पूरी की गई। एजेंडे में शामिल रामलीला मैदान के प्रकरण को स्थगित रखा गया है। शेष सात पास हो गए।
अब बीमा क्लेम पर सर्विस चार्ज
बीमित दुकान में आग लगने पर अगर दुकानदार बीमा क्लेम लेता है तो अब नगर पालिका उससे आग बुझाने के लिए उपयोग की गई दमकल का चार्ज 5100 रुपए वसूल करेगी।