ब्रीदिंग से 10 दिन में कम कर सकते हैं पेट की चर्बी

भागदौड़ भरी जिंदगी और असंतुलित आहार के कारण मोटापा बढऩा एक आम समस्या हो गई है। जब किसी का वजन बढ़ता है तो उसका सबसे पहला असर पेट पर ही दिखता है और कमर के आसपास चर्बी यानी फैट जमा हो जाती है। पेट बढ़ा हुआ हो तो पूरा शरीर बेड़ौल नजर आता है। पेट बाहर निकला होना शर्मिंदगी का कारण बन जाता है। यही नहीं वजन बढऩे से कई और बीमारियां भी घर कर लेती है।
आप भी आप अपने पेट की बढ़ती चर्बी से परेशान हैं और इसे कम करने के लिए कोई उपाय ढूंढ रहे हैं तो आपके लिए ये कुछ ब्रीदिंग एक्सरसाइज बड़े काम की हो सकती है। आइए जानें उन ब्रीदिंग एक्सरसाइज के बारे में जिनसे आपको पेट की चर्बी कम करने में आसानी होगी:
डायफ्राम ब्रीदिंग: इसके लिए सबसे पहले आपको पीठ के बल लेटना होगा। इसके बाद सांस लेना शुरू करें और हर सांस के साथ अपने चेस्ट पर ध्यान लगाएं और पेट को ऊपर-नीचे होते हुए महसूस करें। सांस लेना जारी रखें लेकिन हर सांस को गहराई से लें और छोड़ें। इसे आप दिन में किसी भी समय अभ्यास कर सकते हैं। यह नियमित रूप से करें। यह ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपके पाचन तो सुधारेगी और पेट की अवांछित चर्बी को हटाएगी। इससे वजन घटेगा।
डीप ब्रीदिंग: एक्सरसाइज शुरू करने के लिए आपको कुर्सी या जमीन पर सीधे बैठना होगा। अपनी हथेलियां अपनी गोद में रखें और आंखें बंद करें। कुछ भी सोचना बंद कर दें और अपने सांसों पर हीं ध्यान दें। चार मिनट तक सामान्य तरीके से सांस लें। ध्यान करें। 1 से 4 गिनती गिनते हुए गहरी सांस अंदर लें और 1 से 6 गिनते हुए सांस बाहर छोड़ें। ऐसा अगले 10 मिनट तक करें।
स्टिम्यूलेटिंग ब्रीदिंग एक्सरसाइज: कुर्सी पर सीधे बैठे, मुंह बंद रखें और रिलेक्स रहें। सांस को लेते-छोड़ते हुए इसकी काउंटिंग करें। इस ब्रीदिंग से आपके एब्डमन, चेस्ट और लंग्स पर दबाव पड़ेगा। इसे रोजाना 15 मिनट करें।
बैली ब्रीदिंग: कुर्सी पर बैठें, अपनी पीठ सीधी रखें या सीधा खड़े हो जाए। पहला स्टेप अपने दिमाग को शांत करना और सभी परेशानियां और चिंताओं को भूल जाना हैं। जो भी दिमाग में विचार आएं उसे आकर जाने दें। अपना हाथ पेट पर रखें, आपका अंगूठा बैली बटन के पास होना चाहिए। गहराई से सांस लें। इस बात को सुनिश्चित करें कि सांस लेते समय आपका चेस्ट फूले नहीं और अपने पेट को एक्सपांड होने दें।
माउथ ब्रीदिंग: आप खड़े होकर या लेटकर इस एक्सरसाइज को कर सकते हैं। अपना मुंह खोलें और एक जैसी व धीमी मुंह से सांस लें। मुंह से सांस लेते हुए 10 तक काउंट करें। सांस छोडऩे का समय इससे ज्यादा हो। इसलिए अगर आप दो सेकंड सांस लें तो 4 सेकंड में इसे छोड़ें। खुद पर ज्यादा दबाव न डालें, जितना हो सकें उतना करें। तीन बार इस प्रक्रिया को करें।