महामहिम ने प्रेस कान्फे्रंस मेें सहला दिए महिला पत्रकार के गाल

– तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित एक बार फिर विवादों मेंं
चेन्नई। तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित एक बार फिर से विवादों में घिर गए हैं। डिग्री के लिए सेक्स केस में आरोपी महिला के बयान पर घिरे बनवारी लाल पुरोहित ने मंगलवार को इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी लेकिन ये प्रेस कॉन्फ्रेंस भी उनके लिए बवाल बन गई क्योंकि इस मौके पर राज्यपाल ने एक महिला पत्रकार के गाल सहला दिए।
दरअसल एक महिला पत्रकार ने राज्यपाल पुरोहित से एक सवाल किया था लेकिन जवाब देने के बजाय राज्यपाल ने पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम के गाल सहला दिए, उनकी इस हरकत को देखकर महिला पत्रकार समेत वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए।
पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम के मुताबिक, इस घटना के बाद उसने कई बार अपना मुंह धोया, लेकिन वो इस बात को भुला नहीं पा रही थी, उसने अपना दर्द ट्विटर पर भी बयां किया है। सुब्रमण्यम ने इसके साथ ही एक मैगजीन के लिए 630 शब्दों का आर्टिकल भी लिखकर अपना दर्द और गु्स्सा प्रकट किया है। राज्यपाल की इस हरकत की चौतरफा निंदा हो रही है। इससे पहले पुरोहित डिग्री के लिए सेक्सज् केस में आरोपी महिला के आरोप को लेकर चर्चा में थे।
गौरतलब है कि तमिलनाडु के अरुप्पूकोट्टई के देवांग आर्ट कॉलेज की एक महिला लेक्चरर पर आरोप है कि उन्होंने छात्रों को ज्यादा नंबर और पैसे के लिए कुछ अधिकारियों के साथ एडजस्ट करने की सलाह दी थी, हालांकि वह इन आरोपों से इनकार कर रही हैं, साथ ही एक ऑडियो भी सामने आया है जिसमें ये महिला लेक्चरर राज्यपाल पुरोहित से अपने संबंधों की बात कह रही है। राज्यपाल ने इसी बात पर सफाई देने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी, जहां एक नया विवाद पैदा हो गया।
झुंझुनूं मेंं जन्मे हैं राज्यपाल पुरोहित
कौन हैं बनवारी लाल पुरोहित 16 अप्रैल 1940 में राजस्थान के झुंझुनूं में जन्मे बनवारी लाल पुरोहित महाराष्ट्र के विदर्भ जिले के जाने-माने नेता है। वे तीन बार नागपुर लोकसभा सीट से सांसद चुने गए थे। वे 1977 में राजनीति में आए। 1978 में उन्होंने महाराष्ट्र के नागपुर से पहला विधानसभा चुनाव जीता जबकि 1980 में दक्षिणी नागपुर से एक बार फिर विधानसभा पहुंचे। 1982 में राज्य में मंत्री भी बने। पुरोहित 1984 ,1989 और 1996 में में भाजपा के टिकट पर नागपुर कंपटी से लोकसभा चुनाव जीते थे।