यदि जन्मकुंडली में है ऐसा दोष तो हो सकता है तलाक

किसी भी लड़की या लड़के के लिए, विवाह एक बंधन होता है। इसलिए विवाह काफी सोच-समझकर करना चाहिए। खासतौर पर विवाह के पहले विवाह योग्य लोगों की जन्मकुंडली जरूर मिलानी चाहिए।
वह इसलिए कि जन्मकुंडली में ऐसे कई दोष होते हैं। जो वैवाहिक जीवन में काफी असर डालते हैं। आलम यह होता है कि यदि बिना जन्मकुंडली देखे बिना विवाह कर दिया जाए तो तलाक जैसी विषम परिस्थितियां भी बन सकती हैं।
गौर करने वाली बात यह है कि यदि राहू के सप्तम भाव में होने का अर्थ है कि आप अपनी पत्नी से दूर रहेंगे या आपका अपनी पत्नी से बिछडऩा संभव है।
अलगाव का यह योग आपकी कुंडली में और भी प्रबल हो जाएगा यदि राहू को सूर्य का साथ मिल जाए। ऐसे में तलाक का योग बनता है।
– यदि लड़के या लड़की की जन्म कुंडली के 7वें भाव में स्थित 12 भाव के स्वामी से राहु की युति हो तो तलाक होने की संभावनाएं काफी अधिक रहती हैं।
– कुंडली के 12वें भाव में बैठे 7 वें भाव के स्वामी से राहु की युति हो तो तलाक हो सकता है।
– 5वें भाव में स्थित 12वें भाव के स्वामी से राहु की युति हो तो तलाक हो सकता है।
– 7वें भाव में स्थित सूर्य पर शनि के साथ शत्रु ग्रह की दृष्टि होने से तलाक के योग बनते हैं।