यमन सागर में 150 शरणार्थियों को फेंका, छह मरे,13 लापता

दुबई। यमन के समुद्री तट पर गत 24 घंटे के दौरान दूसरी बार मानव तस्करों ने लगभग 150 शरणार्थियों को समुद्र में फेंक दिया जिसमें से छह की मौत हो गई और 13 अब भी लापता बताए जा रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र प्रवासन एजेंसी ने अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (आईओएम) के हवाले से बताया कि उसके कर्मचारियों को समुद्र तट पर छह शव मिले हैं जिनमें दो महिला और चार पुरुष है जबकि 13 शरणार्थी अभी भी लापता है। एजेंसी ने कहा कि आईओएम कर्मचारियों के आने से पहले 84 लोगों ने समुद्र तट छोड़ दिया था जबकि 57 शरणार्थियों को आपातकालीन चिकित्सा सहायता के रूप में भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया। संयुक्त राष्ट्र प्रवासन एजेंसी ने कहा कि 160 यूथोपियाई शरणार्थियों को गुरुवार देर रात को भहसक रूप से समुद्र में फेंका गया। यमन में एजेंसी प्रमुख लौरेंट डी बोक ने कहा, यह वास्तव में एक बहुत नाटकीय स्थिति है। आईओएम प्रमुख विलियम लेकी भस्वग ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि यमन के तट पर तस्करों द्वारा किए गए इस कृत्य की हम कड़ी निंदा करते हैं। आईओएम ने एक बयान में कहा कि इससे पहले बुधवार को तस्करों ने लगभग 120 लोगों को समुद्र में फेंकने का प्रयास किया था जिसमें से उसके कर्मचारियों को शबवा तट पर 29 शरणार्थियों के शव मिले थे जबकि 22 अभी भी लापता है।