BREAKING NEWS
Search

राजस्थान की नामी बिल्डर कंपनी पर छापे

– करोड़ों-अरबों के बेनामी सौदों पर आयकर विभाग हुआ सक्रिय
– बेनामी सौदों के दस्तावेज मिले, शाम तक होगी स्थिति स्पष्ट
जयपुर। राजस्थान की नामचीन बिल्डर कंपनी मंगलम के कार्यालयों पर शनिवार सुबह आयकर विभाग ने छापे मारे। आधा दर्जन अफसरों की टीमें कंपनी के कार्यालयों और कंपनी संचालकों के आवासों पर सर्च कार्रवाई कर रही है। सर्च कार्रवाई में बड़ी मात्रा में सम्पत्तियों के दस्तावेज मिले हैं। उन दस्तावेज की पडताल की जा रही है। बेनामी सौदे के भी दस्तावेज मिले हैं, साथ ही जमीनों की खरीद और निवेश सौदों में लाखों-करोड़ों रुपए की कर चोरी पकड़ी है। हालांकि कर चोरी का सही आंकडा विभाग शाम तक जारी करेगा।
इस कंपनी पर एक साल पहले भी आयकर विभाग ने छापा मारा था। तब करोड़ों रुपए की कर चोरी पकड़ी गई थी। आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक नोटबंदी के दौरान बिल्डर कंपनी और दूसरी रियल स्टेट की कंपनियों व उनके संचालकों ने जयपुर, एनसीआर सर्किट में जमीनों की खरीद-फरोख्त की है। यह खरीद बेनामी तरीके से की गई। एसटी-एससी की जमीनें भी दूसरों के नाम से खरीदी गई।
करोड़ों-अरबों रुपयों की इस खरीद-फरोख्त को लेकर आयकर विभाग ने दस्तावेज खंगाले तो सामने आया कि ये सम्पत्तियां बेनामी तरीके से खरीदी गई है। जिन खरीददारों के नाम से जमीनें खरीदी गई, उनकी हैसियत इतनी नहीं थी कि वह बीघा-दो बीघा जमीन भी खरीद सके। जबकि अलवर में भी बेनामी तरीके से खरीदी गई। जयपुर के आस-पास ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में सम्पत्तियां खरीदी गई।
आयकर विभाग इन सम्पत्तियों की खरीद के पीछे बिल्डर कंपनी के संचालकों और दूसरे लोगों की मिलीभगत की पडताल में लगा है। अभी विभाग की सर्च कार्रवाई चल रही है। हाल ही जयपुर में एक चालक के पास करोड़ों रुपए की जमीन खरीदने का मामला पकड़ा तो उसने आयकर विभाग को बताया कि वह तो उसके मालिक की जमीनें हंै, जो उसने मेरे नाम से खरीदी थी।