BREAKING NEWS
Search

राजस्व अधिकारी तहसीलदार की रिपोर्ट पर कार्यवाही करें : राजस्व बोर्ड अध्यक्ष

– अधिकारियों की बैठक में दिये दिशानिर्देश
श्रीगंगानगर। राजस्थान राजस्व मंडल अजमेर के अध्यक्ष वी. श्रीनिवास ने कहा कि राजस्व अधिकारियों को नियमित रूप से राजस्व अदालतें आयोजित कर राजस्व मामलों का अधिकतम निपटारा करना चाहिए।
श्रीनिवास गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में जिले के राजस्व अधिकारियों की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्व प्रकरणों को कम समय में निपटाने के लिये प्रकरण की प्रतिमाह सुनवाई की जाये तथा पारदर्शिता के साथ प्रकरण निपटाये जाये। उन्होंने राजस्व अधिकारियों की वर्ष 2017-18 की एसीआर भिजवाने के निर्देश दिये।
उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारी लम्बित प्रकरणों की संख्या में कमी लाने के प्रयास करें तथा प्रतिमाह पूरे जिले की सूचना जिला कलक्टर के माध्यम से राजस्व मंडल को मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रति सप्ताह राजस्व न्यायालय के लिये दिवस निर्धारित करें। राजस्व अधिकारी द्वारा दिया गया निर्णय गुणवत्तायुक्त होना चाहिए तथा वह रिव्यू बेस होना चाहिए। विभिन्न न्यायालयों में लम्बित राजस्व प्रकरणों का नियमित अनुसरण के साथ-साथ तथ्यात्मक जवाब प्रस्तुत करना चाहिए। न्यायालयों में विचाराधीन प्रकरणों की नियमित मॉनिटरिंग की जाये। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारियों को चाहिए कि वह तहसीलदार की रिपोर्ट पर कार्यवाही करें। सीधे ही पटवारी की रिपोर्ट पर नही। उन्होंने हिन्दू राईट एक्ट पर चर्चा करते हुए कहा कि लड़कियों का हिस्सा मृत्यु के पश्चात राजस्व नियमों के अनुसार निर्धारित किया जाये।
उन्होंने जिले के प्रत्येक एसडीएम से लम्बित प्रकरणों की जानकारी ली तथा आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में बताया कि सादुलशहर एसडीएम कोर्ट में 300 प्रकरण, विजयनगर में 241, सूरतगढ़ में 1218, श्रीगंगानगर में 544, पदमपुर में 457, घड़साना में 348 राजस्व प्रकरण लम्बित है। उन्होंने राजस्व के क्षेत्रा में सादुलशहर, सूरतगढ़ व घडसाना क्षेत्र में अधिकतम प्रकरण के कारण भी जानें।