राम रहीम के डेरे में सबसे पहले तलाशे जायेंगे नर कंकाल

चंडीगढ़। राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा को खंगालने की मंजूरी मिल गई है। वहीं डेरे में घुसते ही सबसे पहले एक चीज तलाशी जाएगी और अगर वह मिल गई तो…। राम रहीम और डेरे की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। दरअसल, पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के अंदर सर्च ऑपरेशन चलाने की हरी झंडी सरकार को दे दी। हाईकोर्ट ने इसके लिए सेवानिवृत न्यायाधीश केएस पंवार को कमिश्नर नियुक्त किया है, इन्हीं की देखरेख में सर्च ऑपरेशन चलेगा। ऑपरेशन के तहत डेरे में सबसे पहले उन नरकंकालों के लिए सर्च आपरेशन चलाएगी, जिनके बारे में मीडिया में डेरे के पूर्व अनुयायियों ने बयान दिए हैं। पूर्व समर्थकों ने यह आरोप लगाए हैं कि डेरे में नाफरमानी करने वाले लोगों को वहीं मार कर दफन कर दिया जाता था।इस काम के लिए पुलिस को सबसे पहले हनीप्रीत और आदित्य इंसा को गिरफ्तार करना होगा। पुलिस का दावा है कि इन्हीं की निशानदेही पर डेरे के अंदर सर्च आपरेशन चलाया जाएगा। यही लोग बताएंगे कि कौन का जुर्म कहां पर दफन है। पुलिस के मुताबिक डेरे में कई राज मौजूद हैं। जिनके बारे में हनीप्रीत और आदित्य इंसा को ही मालूम है। सूत्रों के मुताबिक अगले तीन से चार दिन में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता मिल जाएगी। दोनों की तलाश में छापेमारी का काम जारी है।डेरे की गतिविधियों पर लग रहे तरह-तरह के आरापों के बीच पुलिस के लिए हनीप्रीत और आदित्य इंसा को इसलिए गिरफ्तार करना जरूरी हो गया है, क्योंकि रोज-रोज निशानदेही के लिए बाबा को जेल से निकाल पाना संभव नहीं है। हां पूछताछ में बाबा से जो भी पता चलेगा उसकी सर्च की जाएगी।सरकार की ओर से रविंदर ढुल्ल ने हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल कर कहा था कि सिरसा का डेरा मुख्यालय सैकड़ों एकड़ में फैला है और यहां न सिर्फ रिहाइशी कॉलोनी ही है बल्कि कई व्यावसयिक संस्थान भी हैं। डेरा मुख्यालय की जांच में पूरी पारदर्शिता बरती जाए और सरकार की इस प्रक्रिया पर कोई भी सवाल न उठे । इसके लिए सरकार यह जांच किसी निष्पक्ष न्यायिक अधिकारी की निगरानी में करवाना चाहती है।