रूटीन ब्रेक करना भी है जरूरी

सुबह उठते ही शुरू हो जाती है आपकी रोज की दिनचर्या। फिर वही सब तयशुदा बातें। नहाना, खाना, दफ्तर जाना, घर आना, सोना… रोज एक वक्त पर तय है। ये रूटीन किसी को भी बोर कर सकता है। रूटीन में थोड़ा बदलाव लाने की कोशिश करें तो जरूर फ्रेश फील कर सकते हैं। बदलाव से ही नयापन और ताजगी मिलेगी। इन बातों से शुरूआत करें…
बिस्तर ठीक करें
उठने के बाद खुद का बिस्तर ठीक करना अच्छी आदत है, और यह आदत तब और खास हो जाती है जब आप किसी के मेहमान होते हैं। इससे बढिय़ा इम्प्रेशन जो पड़ता है। बिस्तर ठीक करने में चंद मिनट लगते हैं लेकिन दिन की शुरुआत व्यस्वस्थित तरह से होती है। इस तर्ज पर दिन शुरू करने से दिनभर दिमाग में ताजगी बनी रहेगी। एक शांत दिमाग और साफ-सुथरे कमरे से अच्छा भला क्या हो सकता है।
घर से निकलें
बिना काम के भी घर से बाहर निकल कर देखिए। ज्यादा कुछ नहीं तो अपने डॉगी को ही वॉक पर ले जाएं। माना कि आपने यह जिम्मेदारी किसी को दे रखी है लेकिन बदलाव के लिए उसे भी राहत दें। पास में कोई बगीचा है तो वहीं वॉक कर लें। रूटीन तो तोड़ेंगे ही, आप फ्रेश भी महसूस करेंगे।
‘मी टाइमÓ निकालें
आखिरी बार कब आपने अपना स्मार्ट फोन बंद किया था कल नहीं ऐसा आज ही करें। व्यस्त जिंदगी में खुद के लिए थोड़ा समय निकालना है तो वाकई ऐसा करें। इससे काफी फायदा होगा। ऐसी मुश्किलें भी आसान लगेंगी जिनसे लडऩे के बजाए टालते जा रहे थे। मी टाइम निकालना अपने आप से एक मुलाकात की तरह होता है। थोड़ी देर शांत रहकर भी काम चल सकता है। शाम को खिड़की के पास बैठकर चाय या कॉफी का मजा लें और हो सके तो कुछ अच्छा संगीत सुन लें। वो करें जिसमे आपको ख़ुशी मिलती हो। ये आपकी मेंटल और इमोशनल हेल्थ के लिए जरूरी है। ऐसा करने के लिए आपको ज्यादा टाइम देने की जरूरत नहीं है। कुछ देर के लिए कुछ पढ़ें, मैच देखें, बेस्ट फ्रेंड को बुला लें।