लंबी कनिष्ठा अंगुली वाले होते हैं चालाक

ज्योतिषशास्त्र में व्यक्ति के स्वभाव और विचार के पहचान के कई तरीके बताए गए हैं। इनमें एक तरीका हाथों की अंगुलियों की बनावट भी है। ज्योतिष विद्या के अनुसार, किसी व्यक्ति की हाथों की अंगुलियों को देखकर उसके व्यक्तित्व के बारे में पता लगाया जा सकता है।
जैसे हस्तरेखा में जीवन रेखा से किसी आयु, मस्तिष्क रेखा से किसी शिक्षा व रोजगार और हृदय रेखा से प्रेम संबंधों के बारे में पता लगाया जाता है वैसे ही किसी की अंगुलियों का आकार उस व्यक्ति के बारे में बहुत कुछ बताती हैं।
– अंगुलियों के अग्रभाग तीखे होते हैं, वे लोग समाज में अग्रणी होती हैं। ऐसे व्यक्ति दार्शनिक होते हैं। बहुत समझदार होते हैं। इनके जीवन का सफलता कम ही रहती है क्योंकि ये लोग अक्सर कल्पनाओं में खोए रहते हैं।
– जिन लोगों की सबसे छोटी अंगुली (कनिष्ठा) सामान्य से ज्यादा लंबी होती है वे चालाक किस्म के होते हैं।
– चपटी अंगुलियां कार्यकुशलता और फूर्ती का की सूचक होती है। ऐसे व्यक्ति अपने कार्यों में बराबर लगे रहते हैं। ऐसे व्यक्ति आत्मविश्वास के बल पर ही हर काम में सफलता प्राप्त करते हैं। अपने कार्यों से समाज में नया योगदान देने में सफल रहते हैं।
– नुकीली अंगुलियां सुन्दर विचारों और सुन्दर कार्यों की ओर इशारा करती हैं। इन लोगों के जीवन में उतार-चढ़ाव बने रहते हैं। कभी ये खुशी की चरम सीमा पर होते हैं तो कभी ज्यादा निराश होता है।
– जिन व्यक्तियों के हाथों वर्गाकार अंगुलियां या कुछ चौकोर सी होती हैं वे जीवन में हर काम योजनाबद्ध तरीके से करते हैं। ऐसे लोग अपनी हर एक योजना पर बहुत ज्यादा सोच विचार करते हैं। ऐसे लोगों को सफलता प्राप्त करने के चांस ज्यादा होते हैं।