लुधियाना फैक्ट्री कांड मेंं मृतकों की संख्या बारह हुई

– राहत कार्य जारी, दो दर्जन लोग अभी भी मलबे में फंसे
लुधियाना। लुधियाना में एक प्लास्टिक कारखाने की इमारत ढह जाने के कारण मृतकों की संख्या 12 हो गई है। करीब 25 लोग अभी फंसे हुए हैं। घटनास्थल पर बचाव कार्य जारी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि राहत कार्य जारी है। मलबे के अंदर कुछ और लोग भी फंसे हुए हैं। सूफिया चौक के पास एक औद्योगिक क्षेत्र के संकरे इलाके में स्थित पांच मंजिला इमारत भीषण आग लगने के बाद एक शक्तिशाली विस्फोट के साथ सोमवार दोपहर ढह गई थी। वरिष्ठ जिला अधिकारी प्रदीप अग्रवाल ने कहा कि ध्वस्त इमारत में दमकल कर्मियों और नगर निगम कर्मचारियों समेत 20-25 लोगों के फंसे होने की आशंका है। अधिकारी ने यह भी बताया कि इमारत के मलबे से 12 शव बरामद हुए हैं और बचाव अभियान सोमवार रात भर जारी रहा। तीन शव सोमवार शाम को बरामद हुए जबकि बाकी शव रात के समय बरामद हुए।
बचाव अभियान आज भी जारी रहेगा। कुछ लोग अभी भी अंदर फंसे हुए हैं। बिल्डिंग के कुछ हिस्सों में अभी भी रह-रह कर धुआं उठ रहा है। मरने वालों में फायर कर्मीए फैक्ट्री के मजदूर और दूसरे लोग शामिल हैं। निकाली गई लाशों में एक की पहचान लुधियाना टैक्सी यूनियन के प्रधान इंद्रपाल सिंह पाल सिंह के रूप में हुई। भावाधस लुधियाना के प्रधान लक्ष्मण द्रविड़ भी मारे गए हैं। वे लोगों को बचाने के लिए अंदर गए थे। फैक्टी के 4 वर्कर्स और 4 फायर बिग्रेड के कर्मचारी भी शामिल हैं। पुलिस ने सोमवार देर रात फैक्टरी के मालिक इन्द्रजीत सिंह गोला पर धारा 304 ए के तहत मामला दर्ज कर लिया है। जानकारी के मुताबिक सुफिया बाग चौक में स्थित इस प्लास्टिक फैक्ट्री में लिफाफे बनाने का का काम होता था। आग लगने की वजह का पता नहींं चल पाया है। ऐसा कहा जा रहा कि शॉर्ट सर्किट से आग लगी है।