लोकसभा चुनाव के बाद फिर आमने-सामने होंगे राहुल और स्मृति ईरानी

अहमदाबाद। लोकसभा चुनाव के बाद एक बार फिर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी आमने-सामने होंगे। वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) को लेकर राहुल आठ नवंबर (नोटबंदी की वर्षगांठ) को सूरत में कपड़ा व्यापारी और बुनकरों से मिलने वाले हैं। उसी दिन समृति ने भी व्यापारियों को चर्चा के लिए दिल्ली बुलाया है। गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा-कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपनी सभाओं में जीएसटी व नोटबंदी के मुद्दे उठा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत वर्ष आठ नवंबर को ही नोटबंदी का एलान किया था। इसीलिए राहुल गांधी उसी दिन सूरत में कपड़ा व्यापारियों, बुनकरों और छोटे दुकानदारों से मिलकर जीएसटी व उनकी अन्य दिक्कतों पर चर्चा करेंगे। हालांकि शनिवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल को जीएसटी पर और अध्ययन करने की नसीहत देकर भाजपा के अपने विकास एजेंडे से नहीं भटकने का संदेश दिया था, लेकिन गुजरात जैसे बिजनेस स्टेट में पार्टी किसी भी मसले को यूं ही अधर में नहीं छोडऩा चाहती। यही वजह है कि स्मृति ईरानी भी बुधवार को सूरत के व्यापारियों से दिल्ली में मुलाकात कर उनकी समस्याओं पर चर्चा करना चाहती हैं ताकि कांग्रेस बेवजह उसका श्रेय न ले सके। बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान अमेठी में देश ने राहुल व स्मृति के बीच जंग देखी है।