BREAKING NEWS
Search

विद्यार्थियों को एक साथ मिलेंगी सभी पाठ्य पुस्तकें

– संस्था प्रधान, नोडल अधिकारी व शिक्षा अधिकारी को भी देना होगा प्रमाण पत्र
श्रीगंगानगर। सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को इस बार सभी पाठ्य पुस्तके एक साथ उपलब्ध करवाई जायेगी। इतना ही नहीं संस्था प्रधान को भी सभी पाठ्य पुस्तके उपलब्ध होने का प्रमाण पत्र देना होगा। शिक्षा विभाग ने इस बार निशुल्क पाठ्य पुस्तक वितरण को लेकर व्यवस्था में सुधार के प्रयास किए है। इन प्रयासों के चलते निदेशालय द्वारा शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी करते हुए बताया गया है कि कई स्कूल पाठ्य पुस्तक मण्डल और नोडल केन्द्र से छात्रों की संख्या से अधिक किताबें ले जाते है, जिसकी वजह से दूसरे स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को पूरी किताबें नहीं मिल पाती। ऐसे स्कूलों में किताबों की संख्या गडबड़ा जाती है। विद्यार्थियों को सालभर किताबें पूरी होने का इन्तजार करना पड़ता है। इस कारण उनकी पढ़ाई भी बाधित होती है।
सूत्रों के अनुसार शिक्षा विभाग ने अब संस्था प्रधान से लेकर जिला शिक्षा अधिकारी तक को नि:शुल्क किताबों के संबंध मे पूरी जानकारी सम्पूर्ण विवरण सहित निदेशालय को भेजने के निर्देश दिए है। संस्था प्रधान, नोडल अधिकारी व जिला शिक्षा अधिकारी को इस संंबंध में प्रमाण पत्र देना होगा।
अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी अशोक वधवा ने बताया कि पाठ्य पुस्तक वितरण के लिए निदेशालय से दिशा-निर्देश मिल गए है। अभी सभी विषयों व सभी कक्षाओं की पाठ्य पुस्तके उपलब्ध नहीं हुई है। सारी किताबें मिलने के बाद नोडल केन्द्रों व नोडल केन्द्रों से स्कूलों के लिए वितरित की जायेंगी। किताबें पूरी होने के बाद वितरण कार्यक्रम बनाकर जारी किया जायेगा।
यह बताना होगा प्रमाण पत्र में
संस्था प्रधान, नोडल अधिकारी व जिला शिक्षा अधिकारी को प्रमाण पत्र में बताना होगा कि शैक्षिक सत्र 2018-19 के लिए कक्षा 1 से 8 व 9 से 12 के विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क पाठ्य पुस्तके पूरी मिल गई है। पाठ्य पुस्तके शाला दर्पण पर नामांकन संख्या के अनुसार मिली है।