BREAKING NEWS
Search

विधानसभा में 15 विधायकों ने कराई स्वाइन फ्लू की जांच, रिपोर्ट नेगेटिव

– नरपत सिंह राजवी व अमृता मेघवाल के स्वाइन फ्लू होने के बाद सकते में विधायक
जयपुर। राजस्थान में स्वाइन फ्लू का कहर अब बारह मासी हो चला है। वर्ष 2018 के अभी 52 दिन ही बीतें हैं कि इससे अब तक 88 लोगों की मौत हो गई है। राज्य में इसका भय आमजन में तो व्याप्त हैं ही, अब प्रदेश के लोकतंत्र के पहले स्तंभ विधानसभा में भी इसकी दहशत है।
दो भाजपा विधायकों नरपत सिंह राजवी और अमृता मेघवाल के स्वाइन फ्लू होने के बाद मंगलवार से ही विधायकों में फ्लू का डर मन में समाया है। चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने विधानसभा पहुंचे स्वाइन फ्लू वायरस के संक्रमण के चलते खांसी-जुकाम से पीडि़त विधायकों को जांच की सलाह दी थी। इसका असर यह हुआ कि भयभीत 15 विधायक बुधवार को विधानसभा में स्वाइन फ्लू जांच के लिए डरे-सहमे सुबह पहुंचे। इन विधायकों के जांच सैम्पल लिए गए और इन्हें जांच के लिए एसएमएस अस्पताल भेजा गया।
शाम को जाकर विधायकों ने राहत की सांस ली। सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई। मतलब की सभी सामान्य सर्दी जुकाम से संक्रमित पाए गए। चिकित्सा विभाग के जनस्वास्थ्य निदेशक डॉ. वीके माथुर ने इसकी पुष्टि की है। विधानसभा से पहले नए आरएएस अफसरों की ओटीएस में टे्निंग के दौरान और इसके बाद सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल में भी स्वाइन फ्लू का संक्रमण फैल चुका है। चिकित्सा विभाग की एसीएस वीनू गुप्ता ने बुधवार को स्वाइन फ्लू की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने वर्तमान मरीजों की स्थिति, उपलब्ध दवाइयों के साथ ही फ्लू होने पर की जाने वाली स्क्रीनिंग को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए। उन्होंने डेंगू पॉजिटिव मरीज मिलने पर उसके घर के आसपास मच्छर मारने का अभियान चलाने के आदेश भी दिए हैं।