शहर के व्यापारियों का गुस्सा फिर भड़कने के आसार

– एसपी से मिलकर पूछेंगे-रमेश सर्वटा में क्या खासियत है?
श्रीगंगानगर। रमेश सर्वटा को हटाने के करीब एक महीने के बाद पुन: पुरानी आबादी पुलिस थाना प्रभारी नियुक्त करने से व्यापारियों का गुस्सा फिर भड़कने के आसार हैं। बिहाणी शिक्षा ट्रस्ट के अध्यक्ष जयदीप बिहाणी के खिलाफ मामला दर्ज करने पर व्यापारियों के आंदोलन पर उतारू होने पर रमेश सर्वटा को पुरानी आबादी थाने से हटा दिया गया था। कल उन्हें फिर से वहीं नियुक्ति दे दी गई है। इस पर बिहाणी के तेवर तीखे हो गए हैं।
जयदीप बिहाणी इस मुद्दे पर व्यापारिक प्रतिनिधियों के प्रतिनिधि मंडल के साथ गुरुवार को पुलिस अधीक्षक से मिलेंगे। बिहाणी का कहना है कि रमेश सर्वटा में क्या खासियत है, यह एसपी से पूछा जाएगा। जयदीप बिहाणी कई दिनों से शहर से बाहर थे। कल रमेश सर्वटा को पुन: पुरानी आबादी थानाधिकारी लगाया गया। आज बिहाणी श्रीगंगानगर लौटे तो उन्हें इस बारे में पता चला।
बिहाणी ने बताया कि हम लोगों ने इस बारे में पुलिस अधीक्षक से मिलकर विरोध प्रदर्शित करने का निर्णय किया है। जरूरत पड़ी तो फिर से आंदोलन की रूपरेखा बनाई जाएगी।
बिहाणी ने कहा कि पुलिस अधीक्षक से मुलाकात कर उनसे यह पूछा जाएगा कि अगर रमेश सर्वटा पाक-साफ था तो उसे पुरानी आबादी थाने से हटाया क्यों? और अगर गलत होने के कारण हटाया था तो अब वापस क्यो नियुक्त किया गया? अगर रमेश सर्वटा सही है तो इसका मतलब मैं गलत हूं। फिर मुझे गिरफ्तार कर लिया जाए। बिहाणी ने सवाल किया कि पुलिस अधिकारी तो और बहुत हैं। रमेश सर्वटा में ऐसी क्या खासियत है कि उसके बिना दूसरा कोई अधिकारी पुरानी आबादी थाने को चला ही नहीं सकता!
यह था मामला
उल्लेखनीय है कि पुरानी आबादी पुलिस ने नवम्बर की शुरुआत में जयदीप बिहाणी समेत कुछ लोगों के खिलाफ सोने की चेन चोरी करने का मामला दर्ज कर लिया था। इस पर व्यापारियों में गुस्सा भड़क गया। उन्होंने झूठा मामला दर्ज करने का आरोप लगाते हुए एसपी को ज्ञापन देकर थानाधिकारी रमेश सर्वटा, एएसआई शैलेन्द्र कुमार एवं सिपाही छिन्द्र सिंह को जिला बदर करने की मांग की। साथ ही, व्यापारियों ने सात नवम्बर को बैठक करके आठ नवम्बर को श्रीगंगानगर बंद का आह्वान किया। इसी दिन शाम को रमेश सर्वटा को पुरानी आबादी थाने से हटा दिया गया।