शाह मस्ताना समर्थकों ने किया राम रहीम से किनारा

– हाईकोर्ट में याचिका, प्रोपर्टी अटैच न करने की मांग
सिरसा। साध्वी रेप केस में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम के लिए बड़ी बुरी खबर आई है। ऐसे में अब वह क्या करेगा और कौन साथ देगा उसका। दरअसल, राम रहीम की प्रॉपर्टी अटैच होने की कार्रवाई के दौरान ही अब डेरा सच्चा सौदा के संस्थापक शाह मस्ताना के समर्थकों ने राम रहीम से किनारा कर लिया है। हाईकोर्ट में अर्जी दायर कर मांग की गई है कि गुरमीत सिंह राम रहीम से उनका कोई वास्ता नहीं है और वे शाह मस्ताना के अनुयायी हैं। ऐसे में शाह मस्ताना के डेरों को गुरमीत राम रहीम के मामले में अटैच न किया जाए।
शाह मस्ताना के दर्जनों अनुयायियों ने एडवोकेट एमएस जोशी के जरिये हाई कोर्ट की फुल बेंच में पहले से चल रहे मामले में यह अर्जी दायर की है। अर्जी में कहा गया कि शाह मस्ताना महान फकीर थे। उनके समय में 17 डेरे थे जिनका कुछ खास व्यावसायिक आधार नहीं है।
गुरमीत राम रहीम के मामले में हाईकोर्ट ने डेरे अटैच करने की जो बात कही है उसमे शाह मस्ताना जी के डेरे को शमिल नहीं किया जाए। अर्जी में मांग की गई कि यह पुराने चर्चा घर पुराने साधुओं की आध्यात्मिक भावना से जुड़े हैं और उनका कोई व्यापारिक प्रयोग नहीं होता। गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के समय जो तोडफ़ोड़ और आगजनी और अन्य नुकसान हुए हैं, उन्हें इन 17 डेरों से न वसूले जाएं बल्कि इस नुकसान की भरपाई गुरमीत राम रहीम की संपत्ति और उसके समय बनाए गए डेरों और नाम चर्चा घरों की संपत्ति को अटैच कर वसूली जाये।
यह अर्जी शुक्रवार को हाईकोर्ट में दायर कर दी गई है, जिस पर हाईकोर्ट मुख्य याचिका के साथ 27 सितंबर को सुनवाई करेगा।