सबसे कम पट्टे रायसिंहनगर में बने, कलक्टर ने जताई नाराजगी

– राजस्व अधिकारियों की बैठक सम्पन्न
श्रीगंगानगर। जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने आज राजस्व अधिकारियों की बैठक में रायसिंहनगर पंचायत समिति क्षेत्र में सबसे कम पट्टे बनने पर नाराजगी जताते हुए विकास अधिकारी से जवाब तलबी की। उन्होंने कहा कि अन्य पंचायत समितियों में हजार और पांच सौ के लगभग पट्टे बने हैं, जबकि एक मात्र रायसिंहनगर पंचायत समिति ऐसी है जहां मात्र 29 पट्टे ही बनाये गये हैं।
इस पर एसडीओ से मौके पर ही रिपोर्ट मांगी गई कि तो उन्होंने बताया कि कई गांवों में गये, जिसमें समेजा, केके आदि गांव शामिल है। पंचायतों के अनुसार उनके पास नक्शे आदि नहीं है और पट्टा बुक भी उपलब्ध नहीं है। ऐसी स्थिति में पट्टे बनाने में परेशानी झेलनी पड़ रही है। सीईओ  जिला परिषद ने बताया कि सूरतगढ़ पंचायत समिति में 1057, विजयनगर में 1060, श्रीकरणपुर में 1025, पदमपुर में 501, घड़साना में 514 पट्टे बनाये गये हैं। आबादी भूमि के प्रकरण जिन पंचायतों समितियों में लम्बित है उनसे भी शीघ्र कार्यवाही करने को कहा। जिला कलक्टर ने कहा कि पट्टा अभियान को लेकर राज्य सरकार गम्भीर है, जो व्यक्ति पिछले 40-50 सालों से एक ही जगह बैठे हैं तो उन लोगों को 300 वर्ग फुट का पट्टा जारी करने का नियमों में प्रावधान है।
राज्य सरकार द्वारा जो गाइडलाइन जारी की गई है उसके अनुरूप अधिकारी अधिक से अधिक पट्टे बनवाए। इसके अलावा न्याय आपके द्वार अभियान भी शीघ्र शुरू किया जा रहा है। इसकी तैयारियों को लेकर भी दिशा-निर्देश जारी किये गये। इस अवसर पर विभिन्न पंचायत समितियों के विकास अधिकारी व राजस्व अधिकारी उपस्थित थे।