सरपंच 3 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

– दो पट्टे जारी करने की एवज में ली थी रिश्वत
श्रीगंगानगर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने आज ग्राम पंचायत चूनावढ़ के सरपंच को तीन हजार रुपए की रिश्वत लेते दबोच लिया। सरपंच ने यह रिश्वत एक ग्रामीण को पट्टे जारी करने की एवज में ली थी। सरपंच के ट्रेप होने के बाद बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने एसीबी की टीम से सरपंच के खिलाफ और भी शिकायतें की।
एसीबी की स्थानीय चौकी के प्रभारी एएसपी राजेन्द्र डिढ़ारिया ने बताया कि चूनावढ़ के वार्ड नम्बर 13 निवासी सतपाल सिंह पुत्र सुन्दर सिंह रायसिख ने एसीबी कार्यालय में शिकायत दर्ज करवाई थी कि ग्राम पंचायत चूनावढ़ का सरपंच रणवीर सिंह उसके व उसके पिता के नाम पट्टा जारी करने की एवज में पांच हजार रुपए रिश्वत मांग रहा है। इस शिकायत के बाद एसीबी की टीम ने सत्यापन करवाया। सत्यापन के दौरान सरपंच रणवीर ने तीन हजार रुपए में पट्टे जारी करने के लिए राजी हो गया। सत्यापन के बाद एसीबी की टीम ने सरपंच को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकडऩे के लिए जाल बिछाया। सरपंच रणवीर आज सुबह ग्राम पंचायत भवन में पहुंचा। सरपंच ने सतपाल सिंह को फोन करके बुलाया कि रिश्वत की रकम पंचायत भवन में दे जाओ। आज सुबह सतपाल सिंह ने पंचायत भवन में जैसे ही सरपंच रणवीर को तीन हजार रुपए की रिश्वत दी, उसी वक्त मौका पाकर वहां पहले से मोर्चाबंदी करके बैठी एसीबी की टीम ने सरपंच को दबोच लिया। सरपंच रणवीर के कब्जा से रिश्वत की रकम तीन हजार रुपए बरामद हो गई। सरपंच के घर में भी सर्च किया जायेगा।
कल एसीबी की गिरफ्त से बच गया था सरपंच
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गुरूवार को ही सरपंच रणवीर को ट्रेप करना था, लेकिन वह बच गया था। एसीबी की टीम चूनावढ़ पहुंच गई थी। परिवादी सतपाल सिंह ने सरपंच रणवीर को फोन करके रिश्वत देने के लिए कहा, तो सरपंच ने बताया कि वह रिश्तेदारी में कोई मामला हो गया, वहां गया हुआ है। अब वह कल (शुक्रवार) को रिश्वत लेगा। परिवादी की सरपंच से बातचीत होने के बाद एसीबी की टीम वापिस श्रीगंगानगर लौट आई। एएसपी राजेन्द्र डिढ़ारिया के नेतृत्व में एसीबी की टीम आज सुबह फिर चूनावढ़ पहुंची और परिवादी सतपाल सिंह को पंचायत भवन में सरपंच रणवीर को रिश्वत देने भेज दिया। सतपाल सिंह रिश्वत देकर जैसे ही बाहर आया, तो एसीबी ने सरपंच को दबोच लिया।