नई दिल्ली। तमिलनाडु में व्यापारियों के इस फैसले से कोक-पेप्सी को 1400 करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है। दरअसल, राज्य के व्यापारियों के संगठनों ने फैसला लिया है कि वो 1 मार्च से कोक-पेप्सी की बिक्री को पूरी तरह से बंद कर देंगे। हालांकि इस फैसले में पेप्सी द्वारा निर्मित अन्य उत्पाद जैसे की ..." />
Breaking News

तमिलनाडु में मार्च से नहीं बिकेंगे कोक-पेप्सी

नई दिल्ली। तमिलनाडु में व्यापारियों के इस फैसले से कोक-पेप्सी को 1400 करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है। दरअसल, राज्य के व्यापारियों के संगठनों ने फैसला लिया है कि वो 1 मार्च से कोक-पेप्सी की बिक्री को पूरी तरह से बंद कर देंगे। हालांकि इस फैसले में पेप्सी द्वारा निर्मित अन्य उत्पाद जैसे की चिप्स, स्नैक्स और ओट्स को फिलहाल शामिल नहीं किया गया है। तमिलनाडु वानीगर संगम और तमिलनाडु ट्रेडर्स फेडरेशन ने कहा है कि दोनों कंपनियां राज्य में मौजूद जल निकायों का दोहन कर रही हैं और सूखे के बावजूद इन दोनों कंपनियों ने इसको जारी रखा है।
इन दोनों संगठनों से करीब 15 लाख व्यापारी जुड़े हुए हैं। यह 15 लाख व्यापारी प्रदेश में फैले छोटे-छोटे 6 हजार से अधिक संगठनों से जुड़े हैं। पेप्सीको के कोल्डड्रिंक ब्रांड पेप्सी का राज्य में 60 फीसदी शेयर है। कोक-पेप्सी के राज्य में पांच प्लांट हैं, जहां से पूरे राज्य में इनकी बिक्री होती है। दोनों कंपनियां स्थानीय स्तर पर काफी पैसा खर्च करती हैं। पेप्सी ने तमिल फिल्मों के सुपरस्टार धनुष को अपना ब्रांड अंबेसडर भी बना रखा है।

Related Posts