फेंगशुई की दुनिया में कपड़े भी बहुत इंपॉर्टेंट रोल प्ले करते हैं। हम कैसेकपड़े पहनते हैं और उन्हें किस तरह से यूज करते हैं, इसका भी हमारी लाइफ में बहुत असर होता है। यंगस्टर्स के बीच फटी हुई जींस पहनने का ट्रेंड है। फेंगशुई में इसे बुरामाना जाता है और कहा जाता है कि इस ..." />

‘गुड लक, चाहिए तो न पहनें ऐसे कपड़े

फेंगशुई की दुनिया में कपड़े भी बहुत इंपॉर्टेंट रोल प्ले करते हैं। हम कैसेकपड़े पहनते हैं और उन्हें किस तरह से यूज करते हैं, इसका भी हमारी लाइफ में बहुत असर होता है।
यंगस्टर्स के बीच फटी हुई जींस पहनने का ट्रेंड है। फेंगशुई में इसे बुरामाना जाता है और कहा जाता है कि इस तरह के कपड़े हमारे लिए बैड लक लेकर आते हैं। यही नहीं, इनफैक्ट कोई भी फटा हुआ या फेडेड कपड़ा कभी नहीं पहनना चाहिए फिर चाहे वह कितना भी फैशनेबल क्यों ना हो।
इस तरह के कपड़े पहनकर आप अपने फ्रेंड्स के बीच भले ही अच्छे लगें, लेकिन ये आपके गुड लक को बैड लक में बदल सकता है। इस तरह के कपड़े पहनना दरिद्रता को न्योता देता है। यह सिर्फ बाहर जाने को लेकरही बुरा नहीं माना जाता बल्कि अगर घर पर हैं या घर से ही काम कर करतेहैं तो भी आपको फटे और पुराने कपड़े नहीं पहनने चाहिए।
जब आप रोजाना सुबह उठें तो आपको सबसे पहले अपनी नाइट ड्रेस को उतारकर कुछ प्रॉपर और ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जो आंखों को अच्छा लगें। ऐसा करने से आपपॉजिटिव वाइब्रेशंस से भर जाएंगे और जब आप ऐसा रोजाना करने लगेंगे तो यह आपके लिए गुड लक भी लेकर आएगा।
अपने दिन की शुरुआत हमेशा एक अच्छी स्माइल और साफ-सुथरे कपड़ों के साथ करनी चाहिए। इतना ही नहीं कपड़ों को धोने के बाद उन्हें हमेशा धूप में सुखाना चाहिए, इससे उनमें वाइब्रेंट एनर्जी आती है।
धुले और सूखे हुए कपड़ों को कभी भी रात में बाहर नहीं छोडऩा चाहिए क्योंकि रात में एनर्जी निगेटिव हो जाती है, जो क पड़ों में भी आ जाती है और जब हम उन कपड़ों को पहनते हैं तो उसका असर हम पर भी होता है।
महीने में कम से कम एक बार अपने तकियों और गद्दों को भी धूप में रखना चाहिए। इससे इनमें जमे हुए जर्म और बैक्टीरिया भी मरते हैं और इनमें अच्छी वाइब्रेशंस भी आती हैं।
अगर घर में कोई बीमार है तो वह व्यक्ति जिस बेड पर रहता है, उसके गद्दे और चादरों को भी धूप दिखानी चाहिए ताकि निगेटिव एनर्जी बाहर निकल सके।

Related Posts