BREAKING NEWS
Search

Movie Review : ‘बेवॉच’

प्रियंका चोपड़ा यानी पीसी की पहली हॉलीवुड फिल्म बेवॉच में उनका किरदार 90 के दशक की वैम्प की याद दिलाता है। हालांकि एक्टिंग और लुक्स के लिहाज से वह कहीं भी कमतर नहीं लगी हैं। कुल मिलाकर यह दिमाग घर पर छोड़कर पॉपकॉर्न खाते हुए देखने लायक फिल्म है।
हमारी पीसी यानी प्रियंका चोपड़ा इससे पहले भी ऐतराज में विलेन का रोल निभा चुकी हैं जो काफी जबर्दस्त था। इस बार भी उन्होंने यही किया है, पर इस बार हॉलीवुड के लिए। हालांकि ऐतराज की सोनिया रॉय 2004 बेवॉच की विक्टोरिया लीड्स से ज्यादा खतरनाक विलेन थीं। फिर चाहे वह उनके पैंतरे बदलने का अंदाज हो या उनकी कोई चाल। विक्टोरिया लीड्स 2017 की नहीं, 90 के दशक की विलेन मालूम होती है, जो ड्रग्स और प्रॉपर्टी की दुनिया में बादशाहत कायम करना चाहती है, खाने की चीजों की आड़ में ड्रग्स का बिजनेस चलाती है और जो फिल्म के अंत में हीरो के आने पर हेलिकॉप्टर में बैठकर भाग जाने की कोशिश करती है। पर इन चीजों के बावजूद प्रियंका बेवॉच में प्रभावित करती हैं। वह अच्छी दिखी हैं, उन्होंने एक्टिंग अच्छी की है और उनका यूएस इंग्लिश लहजा भी अच्छा लगा है। समग्र रूप में फिल्म की बात की जाए, तो यह मसाला फिल्में पसंद करने वालों को अच्छी लग सकती है।
90 के दशक के टीवी सिरीज पर आधारित यह फिल्म लाइफगाड्र्स यानी बीच पर लोगों की जान बचाने वाली एक टीम के एडवेंचर की कहानी है, जिसके मुखिया हैं मिच (ड्वेन जॉनसन)। इसी बीच पर नौकरी की तलाश में आता है मैट ब्रूडी (जैक एफ्रॉन) जो ओलम्पिक गेम्स में मेडल जीत चुका है। मिच को लगता है कि वह अपने काम को लेकर गंभीर नहीं है, इसलिए वह उसे लाइफगार्ड की नौकरी देने के पक्ष में नहीं है। इस बीच मिच को बीच पर एक ड्रग्स का पैकेट मिलता है जिससे उसे लगता है कि कोई बीच के लोगों को ड्रग्स सप्लाई करता है। वह तहकीकात करता है जिससे उसके शक की सुई घूमती जाती है विक्टोरिया लीड्स (प्रियंका चोपड़ा) नाम की एक बिजनेसवुमन पर। अब उसे पुलिस को अपनी बात का यकीन दिलाना है और साथ ही पुलिस के उन अधिकारियों को भी संतुष्ट करना है जिन्हें लगता है कि यह सब पुलिस का काम है। फिल्म की कहानी आज के दौर के लिहाज से जरा पुरानी लगती है, पर अगर आप अपना दिमाग घर छोड़ कर जा रहे हैं, तो पॉपकॉर्न खाते-खाते इसके जोक्स पर हंस सकते हैं। ड्वेन जॉनसन यानी ‘द रॉक’ और जैक एफरॉन ने अपना काम बखूबी किया है। लाइफगाड्र्स की भूमिका निभाने वाली एलेग्जैंड्रा डैड्रियो और केली रॉरबैक बिकिनी में खूबसूरत लगी हैं। फिल्म कहानी के स्तर पर कमजोर है और कई जगह बोझिल मालूम होती है। इसकी एडिटिंग भी कमजोर है और कई सीन्स को लंबा खींचा गया है।

स्टार-2.5